सीखो

⚡⚡🌩⛈🌧🌦☁⚡⚡

*कर्मों की आवाज़*
*शब्दों से भी ऊँची होती है…!*
*”दूसरों को नसीहत देना*
*तथा आलोचना करना*
*सबसे आसान काम है।*
*सबसे मुश्किल काम है*
*चुप रहना और*
*आलोचना सुनना…!!”*
*यह आवश्यक नहीं कि*
*हर लड़ाई जीती ही जाए।*
*आवश्यक तो यह है कि*
*हर हार से कुछ सीखा जाए*

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *