लिंग पुराण

लिंग पुराण
शिवजी की महिमा का बखान करनेवाला लिंग पुराण विशिष्ट पुराण कहा गया है। भगवान शिव के ज्योर्तिलिंगों की कथा, ईशान कल्प के वृत्तान्त सर्वविसर्ग आदि दशा लक्षणों सहित वर्णित है। लिंग पुराण में ११,००० श्लोक है। यह समस्त पुराणों में श्रेष्ठ है। वेदव्यास कृत इस पुराण में पहले योग फिर कल्प के विषय में बताया गया है।
लिंग पुराण मे कुल 390 पेज बनाए गए हैं..
पहला पेज
लिंग पुराण की पीडीऍफ़ फाइल यहाँ से डाउनलोड करें.. श्री लिंग पुराण पीडीऍफ़ फाइल
पहला पेज...
मुख्य पेज...